जियोर्दानो ब्रूनो
चित्र
साभारwww.thehistoryblog.com
जियोर्दानो ब्रूनो ( Giordano Bruno ) का जन्म सन् 1548 ई. में नोला, इटली में हुआ था। जियोर्दानो ब्रूनो 16वीं सदी के प्रसिद्ध इटेलियन दार्शनिक, खगोलशास्त्री, गणितज्ञ और कवि थे। उन्होंने खगोल वैज्ञानिक निकोलस कोपरनिकस के विचारों का समर्थन किया था। वह भी उस समय, जब यूरोप में लोग धर्म के प्रति अंधे थे।

निकोलस कोपरनिकस ने कहा था - 'ब्रह्माण्ड का केंद्र पृथ्वी नहीं, सूर्य है।'

ब्रूनो ने निकोलस कोपरनिकस के विचारों का समर्थन करते हुए कहा - 'आकाश सिर्फ उतना नहीं है, जितना हमें दिखाई देता है। वह अनंत है और उसमें असंख्य विश्व है।'

धर्म के प्रति ब्रूनो का विचार था कि - 'धर्म वह है, जिसमें सभी धर्मों के अनुयायी आपस में एक-दूसरे के धर्म के बारे में खुलकर चर्चा कर सकें।'

ब्रूनो का विचार था कि - ''हर तारे का वैसा ही अपना परिवार होता है जैसा कि हमारा सौर परिवार है। सूर्य की तरह ही हर तारा अपने परिवार का केंद्र होता है।''

महान खगोलशास्त्री जियोर्दानो ब्रूनो की धारणा थी कि - 'इस ब्रह्मांड में अनगिनत ब्रह्मांड हैं। ब्रह्मांड अनंत और अथाह है।'

ब्रूनो का मत था कि - 'धरती ही नहीं, सूर्य भी अपने अक्ष पर घूमता है।'

रोम में स्थित जियोर्दानो ब्रूनो की कांस्य प्रतिमा
चित्र साभार : https://en.wikipedia.org/wiki/Giordano_Bruno 
जियोर्दानो ब्रूनो बड़े निर्भीक और क्रांतिकारी विचार वाले थे। इसलिए चर्च के पादरियों का विरोध भी उन्हें डरा ना सका। ब्रूनो जीवन भर चर्च की कठोर यातनाएँ सहते रहे। उन्होंने अपने जीवनकाल के लगभग 8 वर्ष जेल में बिताए मगर उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारे। उन्हें हारता ना देखकर 17 फरवरी, सन् 1600 ई. को धर्म के ठेकेदारों ( तत्कालीन पोप और चर्च के पादरियों ) ने खुलेआम रोम में भरे चौराहे पर ब्रूनो को खंभे से बांध कर मिट्टी का तेल उन पर छिड़क कर जला डाला।

ब्रूनो ने हँसते हुए आग में जलना स्वीकार किया। लेकिन वे अपने तथ्यों और निष्कर्षों पर अडिग रहे। उनके चेहरे पर डर या पश्चाताप का कोई अहसास नहीं था। उन्हें पूर्ण विश्वास था कि एक ना एक दिन ऐसा अवश्य आएगा जब पूरी दुनिया उनकी खोज को सत्य मानेगी। आखिरकार सत्य की जीत हुई और विश्व ने उनके सिद्धांतों को स्वीकार कर ही लिया।

ब्रूनो के जीवनकाल में ये तथ्य लोगों को समझ में नहीं आया और उनको पुरजोर विरोध हुआ। लेकिन उनकी निर्मम हत्या के बाद यह साबित हो गया कि सूर्य भी अपने अक्ष पर घूमता है। ब्रूनो की मृत्यु के लगभग 200 वर्षों बाद हमारे सौरमंडल के 7वें ग्रह 'यूरेनस' की खोज हुई। फिर 'नेप्च्यून' और 'प्लूटो' जैसे ग्रह तथा सैकड़ों 'क्षुद्रग्रहों' की खोज हुई।

उनकी विचारों से धार्मिक कट्टरपंथी उनके विरुद्ध हो गए। उन्हें धर्म के विरुद्ध बातें करने का दोषी पाया गया और उन्हें मृत्युदंड दिया गया, लेकिन उनकी कही गई धार्मिक सहिष्णुता की बात आज के समय में अधिक उपयोगी और प्रासंगिक है।


और जानकारी यहाँ भी | More Information :- https://hi.wikipedia.org/wiki/जर्दानो_ब्रूनो


Keywords खोजशब्द :- Bruno Burned at the Stake, Bruno Stories in hindi, Giordano Bruno biography in hindi, Giordano Bruno Cosmos, Giordano Bruno death, Giordano Bruno quotes in hindi, Giordano Wiki in hindi, जियोर्दानो ब्रूनो के बारे में हिन्दी में जानकारी, जियोर्दानो ब्रूनो का जीवन परिचय हिन्दी में, जियोर्दानो ब्रूनो के महान विचार और उद्धरण/कोट्स, जियोर्दानो ब्रूनो बायोग्राफी, जियोर्दानो ब्रूनो की मृत्यु